देहरादून. दिल्ली से कुछ देर पहले उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री का नाम पहुंच चुका था परन्तु आधिकारिक रूप से BJP विधायक दल की बैठक में इसकी घोषणा होनी बाकि थी और सारी अटकलों को विराम देते हुए बीजेपी विधायक दल ने गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ( tirath singh rawat ) को अपना नेता चुन लिया और साथ ही प्रदेश को नया मुख्यमंत्री भी दे दिया.

9 मार्च मंगलवार को उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अचानक अपना इस्तीफ़ा राज्यपाल को सौंप दिया. कहा ये भी जा रहा की बीजेपी की और से भेजे गए पर्यवेक्षकों ने कार्यकर्ताओं की बीच असंतोष को लेकर बीजेपी हाईकमान ने ये फैसला लिया था जो बाद में त्रिवेंद्र रावत ने हुए पुष्टि भी कर दी कि “अगर इस्तीफ़े का कारण जानना हैं तो दिल्ली जाना पड़ेगा”.


बहरहाल अब नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के आगे आने वाले विधानसभा चुनावों में पार्टी को जीताने की चुनौती रहेगी.
56 वर्षीय तीरथ सिंह रावत फ़िलहाल गढ़वाल सीट से लोकसभा सांसद हैं. उत्तराखंड बीजेपी के अध्यक्ष ही नवगठित उत्तराखंड के पहले शिक्षामंत्री भी रह चुके हैं. छात्र जीवन से ही संघ से जुड़े तीरथ रावत को बीजेपी व संघ की कार्यप्रणाली से अच्छी तरह वाकिफ़ हैं. उत्तराखंड गठन से पहले वे उत्तरप्रदेश विधान परिषद् के सदस्य भी रह चुके हैं.

रिप्लाई छोड़े

Please enter your comment!
Please enter your name here